बाबरी मस्जिद- 5 एकड़ जमीन पर बनाये जा रहे अस्पताल की खबर का सच क्या है? जानिए

चरस नाम सुने हैं, विशेष प्रकार का नशा होता है, गंजेड़ी लोग लेते हैं, और ओल फ़ोल बकते फिरते हैं, ईरान की तो कभी तूरान की। इस नशे की वजह से बहुत सारी घटनाएं बिना घटें ही घट जाती हैं, मने अफवाहें उड़ जाती हैं, कोई कहकर गुजर जाता है, लोग लकीर पीटने लगते हैं।

ऐसे ही एक खबर सुबह से उडी उडी फिर रही है, मने आँधी की ढाल सोशल गलियारों में तूफ़ान मचाए है, किसी ने कह दिया की सुप्रीम कोर्ट ने जो 5 एकड़ जमीन SCWB (सुन्नी सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड) को दी है उसमें SCWB ने “बाबरी हॉस्पिटल” बनाने का फैंसला किया है। कोई चरसी किसी आवश्यकता से अधिक अक्लमंद व्यक्ति के कान में फूंक मार गया, और फिर लोग लगे वाह वाह और आह आह करने।

ये तस्वीर जिसे बाबरी हॉस्पिटल का आर्किटेक्चर व्यू बताया जा रहा है वास्तव में वर्जीनिया का एक सुप्रिसिद्ध हॉस्पिटल है।

जबसे ये चरस सोसल मीडिया पर फूंकी गयी है उसके बाद से लोग दो ग्रुप्स में बंट गये हैं, एक तो चरस की फूंक कर धुंआ फैलाने वाले, दुसरे उस धुंए को सेनिटाइजर से वाश करने वाले।

ये सस्ता गांजा सबसे पहले इस भाई ने फूँका था, जिसका नाम Kush Singh है। और फिर लोग काम पर लग गए।

बहरहाल हमने इस ख़बर का फेक्ट चेक किया, हमने अपनी जांच में पाया कि ये खबर सच है कि इस ज़मीन पर एक हॉस्पिटल बनने जा रहा है लेकिन इसके अलावा यहाँ एक मास्जिद और इस्लामिक रिसर्च सेंटर भी बनेगा लेकिन इस मैसेज के साथ वायरल किया जा रही तस्वीर पर आपत्ति दर्ज की जा सकती है, इस तस्वीर ने पूरी खबर का गू बना कर रख दिया है, मने एक अच्छे मैसेज का पलेवा कर दिया है। सोशल मीडिया पर इसे लेकर अलग अलग तरह की बाते हो रही हैं और मीम्स बनाये जा रहे हैं.

 

उसके बाद जागरूक पोस्ट की बाढ़ आ गयी

 

ये देखो

 

बनवा ली मजाक

 

एक और देखो, सैंकड़ो नहीं हजारो पोस्ट्स हैं

 

लो इनकी भी सुनो

 

धनियाबाद।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.