‘इसे कहते हैं असली मजा’, बिहार बाढ़ के समय कोइ मदद नही और अब चुनाव प्रचार के लिए आये भाजपा सांसद की पि,टाई पर यूं मजे ले रहे लोग

‘इसे कहते हैं असली भूमि पूजन..’, बिहार बाढ़ के समय कोइ मदद नही और अब चुनाव प्रचार के लिए आये भाजपा सांसद की पि,टाई पर यूं मजे ले रहे लोग,सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो वायरल करते हुए सोशल मीडिया यूजर बीजेपी को जमकर ट्रोल कर रहे हैं.

वीडियो बिहार के सीवान का बताया जा रहा है. यूजर बता रहे है कि जब बीजेपी सांसद बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का जायजा लेने पहुंचे तो लोगों ने उनकी जमकर पि’टा’ई कर दी. इस वीडियो को शेयर करते हुए यूजर लिख रहे है कि अब पता चला है कि बिहार में बहार हैं.वहीं कुछ यूजर्स ने वीडियो पोस्ट करके लिखा कि इसे कहते हैं

असली भूमि पूजन. वहीं सोशल मीडिया औऱ मीडिया रिपोर्ट्स से प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार पि’ट’ने वाले सांसद का नाम जनार्दन सिंह सिंग्रीवाल बताया जा रहा है.सिग्रीवाल महराजगंज से बीजेपी के लोकसभा सांसद हैं. कहा जा रहा है कि 8 अगस्त की शाम सिग्रीवाल अपने समर्थकों के साथ सीवान के लकड़ी नबीगंज स्थिति पड़ौली पंचायत भवन पहुंचे थे.

खबरों के अनुसार सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल यहां पर बाढ़ राहत शिविर में अनियमितता की कई शिकायत मिलने के बाद स्थिति की जांच करने के लिए आए थे. बाढ़ राहत शिविर का जायजा लेने के दौरान ही पंचायत के मुखिया और असा’मा’जिक त’त्वों ने सांसद के साथ मा’र पी’ट की.मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मुखिया की तरफ से बताया गया है


कि बीजेपी सांसद जी क्षेत्र में पिछले चुनावों के बाद से कभी नहीं दिखे लेकिन अब जब विधानसभा चुनाव करीब आ रहे है तो सांसद साहब क्षेत्र में नजर आने लगे.इस सब के बीच लोग सोशल मीडिया पर इस वीडियो को जमकर शेयर कर रहे है. विपक्षी दल भी इसे लेकर बीजेपी को निशाना बना रहे है. कांग्रेस नेता सलमान निजामी ने भी इस वीडियो को शेयर करते हुए चुटकी ली है.

उन्होंने लिखा कि आइये आपका ही इंतजार था, बिहार में बाढ़ प्रभावित ग्रामीणों द्वारा बीजेपी नेता का स्वागत किया गया. देखिये.
वहीं आम सोशल मीडिया यूजर्स भी बीजेपी को इस वीडियो जरिए घेर रहे है. लोग कह रहे हैं बिहार में जिस तरह से बाढ़ ने जनता की हालत खराब कर रही हैं इससे लोगों के अंदर इतना आक्रोश पैदा हो गया है कि लपरवाह नेता कभी भी पी’ड़ित जनता का शिकार हो सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.