अभी अभी – चाँदनी चौक ने सबको चोंकाया, अलका लांबा का बड़ा उलटफेर

चांदनी चौक सीट से कांग्रेस पार्टी की अलका लांबा आम आदमी पार्टी के प्रहलाद सिंह साहनी से लगभग 12000 वोटों से पीछे चल रही हैं.चांदनी चौक विधानसभा सीट दिल्ली की एक प्रसिद्ध विधानसभा सीट रही है. चांदनी चौक दिल्ली की एक ऐसी मार्किट है जिसे देश-दुनिया में उसके नाम से ही पहचाना जाता है.

चांदनी चौक शहर की सबसे पुरानी मार्किट में से है. यहां पर खाने की, किताबों की, इलेक्ट्रॉनिक्स, मसालों, कपड़ों की बड़ी मार्किट है.1993 के चुनाव में पहली बार बीजेपी इस सीट पर सत्ता में आई थी. वासुदेव कप्तान ने इस सीट को जीता था. लेकिन उसके बाद 1998 से 2015 तक इस सीट पर कांग्रेस का दबदबा रहा.


कांग्रेस पार्टी के पूर्व नेता प्रहलाद सिंह साहनी ने 1998,2003,2008 और 2013 में चार बार इस सीट से जीत दर्ज की. लेकिन 2015 में आम आदमी पार्टी की लहर में ये सीट कांग्रेस से हाथ से निकल गई. आम आदमी पार्टी की अलका लांबा ने इस सीट को जीतकर साहनी का दबदबा खत्म किया था. इस सीट पर मुस्लिम वोटर्स का असर भी है.

इस सीट पर मुस्लिमों की आबादी लगभग 40% है.साल 2020 के चुनावों से पहले इस सीट पर बड़ा बदलाव देखा गया था. कांग्रेस के पुराने नेता प्रहलाद सिंह साहनी पाला बदलकर आम आदमी पार्टी में आ गए थे. जबकि अलका लांबा ने ‘आप’ का साथ छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम लिया था.


इसके अलावा बीजेपी के सुमन कुमार गुप्ता भी इस सीट के पुराने नेता है. चांदनी चौक की इस सीट में दरीबा कलां, फतेह पुरी, जामा मस्जिद, कश्मीरी गेट, चांदनी चौक, खैबर पास, लाल किला, यमुना पुल, खारी बाउली, दरिया गंज, फैज़ बाज़ार, किनारी बाज़ार, नई सड़क और नई् सड़क के इलाके आते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.