एम्बुलेंस ड्राइवर द्वारा 22 वर्षीय करों’ना म’रीज का अस्पताल ले जाते हुए रे’प !

केरल : स्वास्थ्य अधिकारियों ने सख्त निर्देश दिए हैं कि हर एम्बुलेंस में कम से कम दो कर्मचारी होने चाहिए और विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए यदि कब्जा करने वाली केवल महिला मरीज हैं । स्वास्थ्य और परिवार कल्याण के लिए राज्य मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि यह घटना की जांच का आदेश देगा। (एचटी फोटो)

अधिकारियों ने कहा कि को’रोनोवा’यरस बी’मारी (कोविद -19) के मरीज को शनिवार देर रात मध्य केरल के पठानमथिट्टा जिले में एक एम्बुलेंस चालक ने कथित तौर पर यौ’न उ’त्पीड़’न किया। पुलिस ने कहा कि एंबुलेंस चालक को अप’राध के कुछ घंटों के भीतर गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस ने कहा कि एक परिवार की दो म’हिला’ओं ने शनिवार शाम को कोविद -19 सकारात्मक परीक्षण किया था। केरल में मानक कोविद -19 मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) के अनुसार, मरीजों को केवल एम्बुलेंस द्वारा अस्पताल में भर्ती होने की अनुमति है।

पुलिस ने कहा कि एम्बुलेंस आधी रात के आसपास आई और एक मरीज को स्थानीय, समर्पित कोविद -19 अस्पताल में भर्ती कराया गया। सुविधा के अधिकारियों ने चालक को दूसरे रोगी को दूसरे अस्पताल में ले जाने की सलाह दी ।

पुलिस ने कहा कि चालक ने एम्बुलेंस को एक उजाड़ जगह पर रोक दिया और वाहन के अंदर 22 वर्षीय म’रीज के साथ ब’ला’त्कार किया। अगर उसे किसी के साथ हुए दु’ष्क’र्म का पता चला तो उसे भी गं’भीर परिणाम भु’गत’ने की ध’म’की दी गई। उसने अस्पताल में भर्ती होने के बारे में डॉक्टरों को घटना के बारे में बताया।

बाद में, एक मेडिकल जांच में यौ’न ह’म’ले की पुष्टि हुई। पुलिस ने पाया कि आरोपी (29) ह’त्या के प्रयास सहित कई आ’पराधिक मामलों में शामिल था। स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि उन्हें एक अस्थायी आधार पर भर्ती किया गया था और वे जांच कर रहे थे कि उन्हें नौकरी कैसे मिली।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने स’ख्त निर्देश दिए हैं कि प्रत्येक एम्बुलेंस में कम से कम दो कर्मचारी होने चाहिए और विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए यदि कब्जाधारी केवल महिला रोगी हैं। उन्होंने सभी ड्राइवरों के एं’टीकेड को सत्यापित करने के लिए केरल पुलिस की मदद भी मांगी। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण के लिए राज्य मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि यह घटना की जांच का आदेश देगा।

“यह एक चौं’काने वाली घटना है। मंत्रालय ने ऐसी घटनाओं से बचने के लिए उपाय किए हैं। वीना जॉर्ज, जो अब तक केरल विधान सभा क्षेत्र में अरनमुला निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करती हैं, ने कहा कि अधिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता एंबुलेंस में तैनात किए जाएंगे, जो सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (मार्क्सवादी) के नेता हैं।

केजी सिमोन, पुलिस अधीक्षक (एसपी), पठानमथिट्टा ने कहा: “यह एक सुनियोजित अ’परा’ध प्रतीत होता है। ड्राइवर ने अ’परा’ध को अंजाम देने के लिए एक घुमावदार रास्ता अपना लिया। हमने सभी साक्ष्य एकत्र किए हैं। हम अ’भियु’क्तों को कड़ी सजा देने के लिए तेजी से सुनवाई करेंगे। ”

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री के के शैलजा ने घटना को “अ’मान’वीय” बताया और कहा कि “ऐसा नहीं होना चाहिए था”।

विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कहा कि इस घटना ने राज्य को श’र्मसा’र किया है। राज्य अध्यक्ष के सुरेंद्रन ने कहा, “हम चाहते हैं कि स्वास्थ्य मंत्री खुद जिम्मेदारी छोड़ें।” पुलिस ने कहा कि आरोपी, जो कि सं’गरोध में है, को एक आभासी मोड के माध्यम से अदालत में पेश किया जाएगा ।

(हिंदुस्तान टाइम्स से साभार – खबर)

Leave a Reply

Your email address will not be published.