गौरी लंकेश ह’त्याकां’ड में आ’रो’पी हुआ गि’रफ्तार, एसआईटी ने किया अब तक का बड़ा खु’ला’सा..

पत्रकारिता जगत की जानी मानी हस्ती गौरी लंकेश और 3 सा’माजि’क का’र्यकर्ता’ओं की ह’त्या मामले में एक बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि बेंगलुरु एसआईटी की टीम ने कल इन तीनों सा’मा’जिक का’र्यक’र्ता’ओं की ह’त्या के आ’रोपी राजेश कुमार उर्फ ऋषिकेश देवदीकर को झारखंड के धनबाद जिले के कतरास में राजगढ़िया मार्केट स्थित एक दुकान से गि’रफ्ता’र किया है।

खबर के मुताबिक बेंगलुरु एसआईटी ने आ’रो’पी की मोबाइल को ट्रे’स किया था और उस स्थान पर जाकर उसे प’क’ड़ लिया गया। इस मामले में बड़ा खु’ला’सा होने के बाद यह पता चला है कि यह आ’रो’पी इस जगह में बीते एक साल से नाम ब’दल’कर रह रहा था और जिस मकान में रह रहता था वह मकान सनातन संस्था की प्रदीप खेमका का है।

पुलिस ने आ’रो’पी राजेश कुमार को पकड़ कर खेमका से भी खाने में घंटों पूछताछ की है। इसके साथ ही पु’लि’स ने आरोपी का मे’डिकल टेस्ट भी करवाया और उसे धनबाद कोर्ट में पेश कर किया है। धनबाद कोर्ट में पेश करने के बाद आ’रो’पी को यह टीम बेंगलुरु ले जाएगी। कन्नड़ पत्रकार गौरी लंकेश की ह’त्या के मामले में राजेश कुमार को कतरास थाना क्षेत्र से गि’रफ्ता’र किया गया है।

गौरतलब है कि गौरी लंकेश की ह’त्या पांच सितंबर 2017 को बेंगलुरू में हुई थी। कतरास पुलिस की मदद से बेंगलुरु पु’लि’स के विशेष जांच दल ने कतरास के भगत मोहल्ला से राजेश कुमार को गि’रफ्ता’र किया। इस मामले में सूत्रों से सामने आई जानकारी के मुताबिक, एसआईटी की टीम यहां दो दिन से आ’रो’पी राजेश की तलाश में थी।

44 वर्षीय राजेश पांच सितंबर, 2017 से फ’रा’र था। 55 वर्षीय गौरी लंकेश को उनके घर के सामने दक्षिण-पश्चिम उपनगर में गो’ली मा’र दी गई थी। इस मामले में यह 18वां आ’रो’पी है। गौरी की ह’त्या में उसकी भूमिका की जांच की जा रही है। राजेश कुमार महाराष्ट्र के औरंगाबाद का रहने वाला बताया जाता है। बेंगलुरु पुलिस आवश्यक का’नूनी का’र्रवा’ई करने के बाद राजेश कुमार को बेंगलुरु ले जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.