कांग्रेस ने गुलाम नबी आजाद सहित 6 बड़े नेताओं से छीना पद

नई दिल्ली : शुक्रवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस में भारी संगठनात्मक बदलाव किए. सोनिया गांधी ने गुलाम नबी आजाद, मोतीलाल वोरा, अंबिका सोनी, मल्लिकार्जुन खड़गे को AICC के महासचिव के पद से हटा दिया और CWC का पुनर्गठन किया. इसके साथ ही पी चिदंबरम, रणदीप सुरजेवाला, तारिक अनवर और जितेंद्र सिंह को नियमित रूप से सीडब्ल्यूसी में नियुक्त किया गया है । सोनिया गांधी ने संगठनात्मक मामलों में सहायता के लिए एक छह सदस्यीय विशेष समिति का गठन भी किया है. इसके अलावा AICC के केंद्रीय चुनाव समिति को भी पुनर्गठित किया गया है ।

सोनिया गांधी ने संगठनात्मक मामलों में सहायता के लिए एक छह सदस्यीय विशेष समिति का गठन भी किया है. इसके अलावा AICC के केंद्रीय चुनाव समिति को भी पुनर्गठित किया गया है. इसके अध्यक्ष के रूप में मधुसूदन मिस्त्री को नियुक्त करने के अलावा राजेश मिश्रा, कृष्णा बायर गौड़ा, एस जतिमानी और अरविंदर सिंह लवली को इसके सदस्य के रूप में चुना गया है. यहां बता दें कि केंद्रीय चुनाव समिति ही अगले कांग्रेस अध्यक्ष का चयन करेगी.

एके एंटनी, अहमद पटेल, अंबिका सोनी, केसी वेणुगोपाल, मुकुल वासनिक और रणदीप सुरजेवाला विशेष समिति के सदस्य होंगे. विशेष समिति के ये 6 सदस्य संगठनात्मक और संचालन मामलों में सोनिया गांधी की सहायता करेंगे.

कांग्रेस में हुए ये संगठनात्मक परिवर्तन में राहुल गांधी की छाप साफ नजर आती है. ताजा बदलाव के बाद अधिकांश नए सचिवों को उनके करीबी सहयोगी के रूप में जाना जाता है, जिसमें महासचिव सुरजेवाला, अजय माकन, जितेंद्र सिंह और केसी वेणुगोपाल भी शामिल हैं. इसके अलावा उनके करीबी माने जाने वाले कुछ युवा नेताओं को विभिन्न राज्यों के प्रभारी के रूप में महत्वपूर्ण संगठनात्मक भूमिका दी गई है और पुनर्गठित सीडब्ल्यूसी में स्थायी और विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में शामिल हैं ।

कांग्रेस में हुए बड़े बदलाव
सुरजेवाला को कांग्रेस का महासचिव भी बनाया गया है. उन्हें कर्नाटक का प्रभारी बनाया गया है. प्रियंका गांधी को यूपी का प्रभारी बनाया गया है. इसके अलावा केसी वेणुगोपाल को संगठन की जिम्मेदारी दी गई है. जानकारी के मुताबिक कांग्रेस महासचिवों में मुकुल वासनिक को मध्य प्रदेश की, हरीश रावत को पंजाब की, ओमान चांडी को आंध्र प्रदेश की, तारीक अनवर को केरल और लक्षद्वीप की, जितेंद्र सिंह को असम की, अजय माकन को राजस्थान की जिम्मेदारी दी गई है.

इसके अलावा जितिन प्रसाद को कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह का प्रभारी बनाया है. संगठन में यह उनके लिए बड़ी उछाल मानी जा रही है. बता दें कि विवादास्पद चिट्ठी पर दस्तखत करने वाले नेताओं में जितिन प्रसाद भी थे. ताजा बदलाव के बाद पवन कुमार बंसल सचिव प्रभारी प्रशासन होंगे. इसके अलावा राहुल के वफादार मनकीम टैगोर को तेलंगाना का प्रभारी सचिव नियुक्त किया गया है.

नए सीडब्ल्यूसी सदस्य के तौर पर दिग्विजय सिंह, राजीव शुक्ला, मनिकम टैगोर, प्रमोद तिवारी, जयराम रमेश, एचके पाटिल, सलमान खुर्शीद, पवन बंसल, दिनेश कुंदुरो, मनीष चतरथ और कुलजीत नागरा की एंट्री हुई है ।

(आजतक से साभार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.