न्यूज़ चैनल ने नौकरी के लिए हिज़ाब नहीं पहनें की रखी शर्त, मु’स्लिम यु’वती ने ठु’कराई

नई दिल्ली : एंकरिंग के समय हिज़ाब नहीं पहनें की रखीं थी शर्त चारों और चैनल की हो रहीं आलोचना, AMU: में मास कम्युनिकेशन की 24 वर्षीय अंतिम वर्ष की छात्रा ग’जाला अ’हमद को बताया गया कि उसे दिल्ली स्थित एक हिंदी मीडिया चैनल ने इसलिए नौकरी देने से इं’कार कर दिया क्योंकि उन्होंने हिजाब पहना था । एक टेलीफोनिक साक्षात्कार पर प्रारंभिक चयन प्रक्रिया को मंजूरी देने के बाद, उसे बताया गया कि उसे अपने हि’जाब को ह’टाना होगा, वरना उसे काम नहीं मिलेगा ।

गज़ाला अहमद ने बताया कि उसने कुछ दिन पहले एक हिंदी समाचार पोर्टल पर समाचार एंकर के लिए आवेदन किया था, 30 अगस्त को, उसे उसके चयन के लिए बधाई देने वाले एक प्रतिनिधि का फोन आया। उसके बाद उसे साफ़ कर दिया गया और कुछ औपचारिकताओं जैसे कि वेतन और शुरुआती तारीख के बारे में चर्चा की जा रही थी ।

गज़ाला ने चैनल एडिटर को सूचित किया कि वह हि’ज़ाब पहनती है और पूछा की क्या कोई समस्या तो नहीं होगी । एडिटर रेखा कुछ मिनट के लिए चुप हो गई”, उसने कहा, “और मैं पूछती रही कि कोई अभी भी वहां था या नहीं। लगभग तीन मिनट के बाद, उन्होंने कहा कि हम नहीं कह सकते हैं। बड़े-बड़े चैनल नहीं रखते, हमारा तो छोटा सा पो’र्टल है [आप समझ नहीं रहे हैं ।

गजाला ने एडिटर को बताया कि उसने कुछ समय के लिए मीडिया उद्योग में काम किया, न्यू इंडियन एक्सप्रेस के साथ-साथ एनडीटीवी के साथ इंटर्नशिप की और उसके धा’र्मिक आ’वरण का उसकी पत्रकारिता अखंडता या उत्पादकता पर कोई असर नहीं पड़ेगा, हालाँकि, उसकी सारी चिं’ताएँ साक्षात्कारकर्ता द्वारा खारिज कर दिया गया । “उन्होंने बताया कि यह भारत है और किसी भी ब्रॉडकास्टर ने कभी हिजाब पहनने वाले को नहीं मना किया है ।

उन्होंने मुझे अपनी स्थिति को समझने के लिए कहा क्योंकि यदि वह किसी हिजाब के साथ भर्ती होतीं है, तो उसका चैनल बंद हो जाएगा। उसने मुझे एंकरिंग के बदले लिखने की कोशिश करने के लिए कहा,

गज़ाला अहमद निराश है कि एक पत्रकार के रूप में उसकी कीमत कम हो गई है, साथ ही साथ यह तथ्य भी है कि उसे अपनी धा’र्मिक पहचान का दावा करने की अ’नुमति नहीं है, अन्यथा यह उसके पेशे की लागत हो सकती है।

(साभार Bijnor Express न्यूज से)

Leave a Reply

Your email address will not be published.