टैक्सी ड्राइवर का बेटा अज़हरुद्दीन बना IAS, अब बनेगा बड़ा अधिकारी

UPSC सिविल सर्विसेज़ 2019 के नतीजों का ऐलान कर दिया है. इस साल कुल 829 उम्मीदवारों को मुंतखब किया गया है. इनमें 304 जनरल के, 78 ईडब्ल्यूएस के, 251 ओबीसी के, 129 एससी के और 67 उम्मीदवार एसटी के हैं. वहीं अगर मुस्लिम उम्मीदवारों की बात करें तो इस साल 44 उम्मीदवारों ने इस इम्तिहान में कामयाबी हासिल की है ।

इसके अलावा टॉपर्स की बात करें तो पहले मकाम व जतिन किशोर ने दूसरे तीसरे मकाम पर प्रतिभा वर्मा चौथे पर हिमांशु जैन, पांचवे पर जयदेव सीएस, छठे पर विशाखा यादव, गणेश कमर भास्कर, 8वें पर अभिषेक सर्राफ, 9वें पर रवि जैन और 10वें मकाम पर संजिता महापात्रा ने अपनी जगह बनाई है ।

वहीँ इस बार अजहरुद्दीन ज़हीरुद्दीन क़ाज़ी भी उन उम्मीदवारों में से एक हैं जिन्होंने 2019 की यूपीएससी परीक्षा को सफलतापूर्वक पास किया है।

महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के यवतमाल क्षेत्र में एक टैक्सी ड्राइवर जहीरुद्दीन क़ाज़ी का बेटा, अज़हरुद्दीन AIR-315 हासिल करके UPSC में पास किया है । अजहरुद्दीन के माता-पिता के पास गैर-डिग्री का दर्जा है। उनके पिता गैर-मैट्रिकुलेट हैं और उनकी मां मेराज कक्षा 10 पास हैं।

अजहरुद्दीन और उनके भाई सभी पेशेवर रूप से योग्य हैं।
उनकी एक बहन एमबीबीएस पूरी कर चुकी है। दूसरा केमिकल इंजीनियर है और तीसरा एक वकील। अज़हरुद्दीन खुद हैंडबॉल में नेशनल कलर होल्डर हैं।

यवतमाल से वाणिज्य में स्नातक, अजहरुद्दीन को कॉर्पोरेशन बैंक में प्रोबेशनरी ऑफिसर के रूप में चुना गया, जहां उन्होंने यूपीएससी के लिए आवेदन करने से पहले 6 साल तक सेवा की। अजहरुद्दीन को जामिया हमदर्द आवासीय कोचिंग आवासीय अकादमी से प्रतिष्ठित भर्ती परीक्षा की तैयारी के लिए मुफ्त कोचिंग मिलती है ।

(हिंदी सियासत से साभार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.