जामिया के पहले 30 छात्र बने IAS अब 12 और UPPSC में हुए पास, बनें बड़े अधिकारी

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन (UPPSC) ने जु’मा के रोज़ पीसीएस-2018 के इम्तिहानात के नतीजों का ऐलान किया है. जिसमें जामिया मि’ल्लि’या इ’स्ला’मिया की रिहाइशी कोचिंग अकेडमी (आरसीए) में कोचिंग और ट्रैनिंग करने वाले 12 स्टूडेंट्स ने कामयाबी हासिल की है । यह कामयाब 12 स्टूडेंट्स उत्तर प्रदेश में एसडीएम, डीएसपी, असिस्टंट कमिश्नर, असिस्टंट रिजनल ट्रांसपोर्टेशन आफिसर और बीडीओ वगैरा बनेंगे ।

आरसीए के 24 स्टूडेंट्स जुलाई-अगस्त 2020 में मुनअकिद इस इम्तिहान के आखिरी इंटरव्यू में शामिल हुए थे. ये स्टूडेंट्स पिछले एक साल या उससे ज्यादा वक्त समय से आरसीए में ट्रेनिंग ले रहे हैं और यूपीएससी के सिविल सर्विसेज़ (प्रीलिम्स) इम्तिहानात के लिए भी तैयारी कर रहे हैं. जो चार अक्टूबर 2020 को होंगी ।

यह कामयाब 12 स्टूडेंट्स उत्तर प्रदेश में एसडीएम, डीएसपी, असिस्टंट कमिश्नर, असिस्टंट रिजनल ट्रांसपोर्टेशन आफिसर और बीडीओ वगैरा बनेंगे.इस साल अगस्त में आरसीए में कोचिंग और ट्रेनिंग हासिल करने वाले 30 उम्मीदवारों का इं’तेखा’ब (चयन) यूपीएससी की सिविल सर्विस इम्तिहान 2019 में हुआ था. इनमें से 25 आरसीए में रह कर ट्रैनिंग ले रहे थे और 05 ने इसके मॉक इंटरव्यू प्रोग्राम में ट्रेनिंग ली थी ।

इससे 1 महीने पहले देश के सबसे बड़े exam में

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी ) 2019 की परीक्षा में जामिया मिल्लिया इस्लामिया की आवासीय कोचिंग अकादमी (आरसीए) के 30 अभ्यर्थियों को सफलता मिली है। इसमें से 25 अभ्यर्थियों ने आरसीए में रह कर प्रशिक्षण प्राप्त किया तो 5 अभ्यर्थियों ने मॉक साक्षात्कार कार्यक्रम में प्रशिक्षण लिया। देश के किसी भी सार्वजनिक कोचिंग सेंटर से यह सबसे बड़ा चयनित समूह है।

जामिया आरसीए से प्रशिक्षण लेने वाले
चयनित 30 उम्मीदवारों में से 6 आईएएस, 8 के आईपीएस बनने की उम्मीद है और बाकी उम्मीदवारों को उनकी रैंकिंग और विकल्पों के अनुसार आईआरएस, आडिट एंड अकाउंट सेवा, आईआरटीएस तथा ग्रुप-ए की अन्य सेवाएं मिलेंगी। इस साल आरसीए से कोचिंग पाने वालों में से रूचि बिंदल का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा, जिन्होंने 39 वां रैंक हासिल किया। आरसीए के कामयाब 30 उम्मीदवारों में से 6 लड़कियां हैं।

जामिया की कुलपति प्रो नजमा अख्तर ने कहा कि यूपीएससी परीक्षाओं में, विश्वविद्यालय की आरसीए ने साल दर साल लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है, जो जामिया के लिए बहुत गर्व और संतोष की बात है। हमें आने वाले वर्षों में और भी बेहतर नतीजों की उम्मीद है।

आरसीए के अच्छे प्रदर्शन के लिए, प्रो अख्तर व्यक्तिगत रूप से मार्गदर्शन कर रही हैं और आरसीए को उत्कृष्टता की ओर ले जाने के लिए उसे हर मुमकिन सहायता प्रदान करा रही हैं। उन्होंने सभी कामयाब छात्रों और उनके परिवार को बधाई दी। आरसीए के इस प्रदर्शन के लिए उन्होंने इसके आनरेरी डायरेक्टर, श्री तनवीर ज़फ़र अली, आईएएस (सेवानिवृत्त) और उप निदेशक श्री मुहम्मद तारिक के कार्यों और समर्पण भाव की भी प्रशंसा की।

जामिया आरसीए से अभी तक 230 सिविल सेवक बने
जामिया आरसीए से अभी तक 230 अभ्यर्थियों का चयन यूपीएससी में हुआ है। जामिया में
साल, 2010-2011 में आरसीए की स्थापना हुई थी। जिसमें से आरसीए ने वर्ष 2019 तक आरसीए ने 230 सिविल सेवक बनाए हैं, जिनमें कई आईएएस, आईएफएस और आईपीएस शामिल हैं। इसके अलावा, 285 से अधिक छात्रों को विभिन्न अन्य केंद्रीय और राज्य सेवाओं यानी सीएपीएफ, आईबी, आरबीआई (ग्रेडबी), एपीएफ, बैंक पीओ और पीसीएस आदि में भी चुना गया है। इस साल आरसीए के 14 छात्र जम्मू-कश्मीर की सीविल सेवाओं में शामिल हुए। जामिया का आरसीए एससी, एसटी छात्रों, महिलाओं और अल्पसंख्यकों को सिविल सेवा और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए मुफ्त कोचिंग और आवासीय सुविधाएं मुहैया कराता है।

(हिंदुस्तान से साभार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.