पत्नी सं’बं’ध बनाने की अनु’मति नही दे’ती: BJD सां’सद ने दी त’ला’क की अ’र्जी

(यह खबर हिंदुस्तान टाइम्स अंग्रेजी माध्यम से हिंदी रूपांतरण व इनशॉर्ट एप्प से हैडिंग ली की गई है)

नई दिल्ली: क’टक के उप-विभागीय न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रियदर्शनी की अदालत में दा’यर अपनी या’चिका में आ’रोप लगाया कि उनके सां’सद प’ति अनुभव मोहंती न’शे में धु’त हो’कर मा’रते थे । अभिनेता से सां’सद बने और लो’कसभा में बीजू जनता दल के उप मुख्य सचेतक अनुभव मोहंती ने अपनी प’त्नी व’र्षा प्रि’यदर्शनी के बाद मु’श्किल में प’ड़ गए, ओडिया फिल्मों के पूर्व अभिनेता, ने उन पर शा’रीरि’क और मा’नसि’क या’त’ना देने का आरो’प लगाया ।

घरेलू हिं’सा अ’धिनियम से म’हिलाओं के संर’क्षण की धारा 12 के तहत क’टक के सब डिविजनल ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट की अ’दालत में दा’यर अपनी या’चिका में, प्रियदर्शिनी ने आ’रो’प ल’गाया कि उनके सां’सद पति श’राब के न’शे में धु’त होकर ‘मा’रते थे ।

सां’सद पर एक शरा’बी और उसके परिवा’र के सदस्यों को अ’पमा’नित करने का आ’रो’प लगाते हुए, उसने “की’ट” की तरह व्य’वहार कि’ए जा’ने के आ’रोप लगा’ए।

मो’हिनी और प्रि’यदर्शनी, दोनों ओडिया फिल्म उद्योग के प्र’मुख अभिनेताओं ने 2014 में शा’दी कर ली। दोनों ने कई फिल्मों में एक साथ अभिनय किया था ।

वह श’रा’बी और म’हिला’वादी है। वह न’शे में होने के बाद अ’श्ली’ल भाषा का इस्ते’मा’ल करता है। 2019 के आखिरी आम चुनाव के बाद, मोहंती और उनके परिवार के सदस्यों द्वारा अ’त्या’चार दिन-प्रतिदिन ब’ढ़ता गया, जो स’हिष्णु’ता के स्त’र से प’रे था, “उसने आ’रोप लगाया।

उसने आगे आ’रोप ल’गा’या कि लॉकडाउन के दौरान दो महीने के लिए, वह कटक में अपने ससुराल में अके’ली रह गई थी और सांसद ने उसकी वि’नती के बावजूद उसे दिल्ली नहीं ले जाया। “दिल्ली से वापस आने के बाद, मेरे पति हिं’स’क हो गए और मुझ पर चि’ल्ला’ए। 7 जून को, मेरे पति और उनके पिता ने मुझे गं’दी भा’षा में 2 घंटे तक फ’टकार लगाई। प्रि’यदर्शनी ने अपनी या’चिका में आ’रोप लगाया कि 11 जून को मेरे प’ति ने मुझे आपसी त’लाक के लिए रा’जी होने के लिए कहा और न मा’नने पर मुझे गं’भीर प’रिणा’म भु’गत’ने की ध’म’की दी।

अपनी याचिका में, उन्होंने अ’भिनेता के साथ-साथ चिकित्सा व्यय और घर के किराए और रखरखाव के लिए 70,000 रुपये के मासिक गु’जारा भत्ता के लिए मोहंती से 15 करोड़ रुपये मुआवजे की मांग की है ।

सोमवार को एसडीजेएम की अदालत में सुनवाई के लिए मामला आएगा।

प्रियदर्शनी ने कटक की एक पारिवारिक अदालत में हिं’दू विवाह अधिनियम की धारा 6 के तहत सं’वैधा’निक अधिकारों की बहाली के लिए एक अलग या’चिका भी दायर की है।

मोहंती, जो आज अपने निर्वाचन क्षेत्र केंद्रपाड़ा के दौरे पर थे, ने हालांकि मामले में कोई कानूनी नोटिस प्राप्त करने से इनकार कर दिया ।

उन्होंने कहा, ‘मुझे इस मामले में कोई का’नूनी नोटिस नहीं मिला है। मैं आपको बता दूंगा कि मुझे कब मिलेगा, ”मोहंती ने कहा, जो बीजेडी के राष्ट्रीय प्रवक्ताओं में से एक है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.