खामनेई की आँखों ने आंसू नहीं अं’गारे बरसे, अमेरिका के मुं’ह पर पड़ा ईरानी त’मा’चा..

अमेरिका द्वारा किए गए हवाई ह’म’लों में मा’रे गए इरान के जनरल कमांडर कासिम सुलेमानी की ह’त्या का ब’दला लेने के लिए ईरान ने दुनिया के सबसे श’क्ति’शाली देश मा’रे जाने वाले अमेरिका से खुले तौर पर पं’गा ले लिया है। इस मामले में ईरान ने अमेरिका पर जवाबी कार्रवाई करते हुए अमेरिकी सैन्य बेस को टा’रगेट कर द’र्जन’भर मि’साइ’लें दा’गी हैं।

ईरान की जवाबी कार्रवाई पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए एक पूर्व राजनयिक ने कहा है कि इसकी पूर्व संभावना थी कि जनरल सुलेमानी के मा’रे जाने के बाद ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह खामनेई की आंखों से आंसू नहीं अं’गा’रे निकलेंगे। जानकारों की माने तो उन्होंने आगे की तस्वीर को लेकर चिं’ताज’नक स्थिति की बात कही है।

उनका मानना है कि ईरान भी जल्द ही ईराक बन सकता है और दुनिया एक बार फिर से बड़ा यु’द्ध झेल सकती है। जिसका सबसे ज्यादा असर भारत जैसे वि’कास’शील देशों पर भी पड़ने के आसार हैं। वहीं ईरान की इस प्रतिक्रिया पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी सीधी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि अमेरिका में इस वक्त सब कुछ ठीक-ठाक है। माना जा रहा है कि अमेरिका ईरान की प्रतिक्रिया से हुए नु’कसा’न का आ’क’लन करके प्रतिक्रिया दे सकता है।

गौरतलब है कि अगर ईरान और अमेरिका के बीच यु’द्ध जैसे हालात बनते हैं तो न केवल काम धं’धे प्रभावित होंगे, बल्कि वहां से सुरक्षित लाना भी बड़े आ’र्थि’क बोझ जैसा रहेगा। इस मामले में ललित मान सिंह का कहना है कि इसका भारत जैसे वि’कास’शील देश पर काफी तेजी से असर पड़ेगा। पूर्व राजनयिक के अनुसार इस पूरे में मामले में शुरुआत अमेरिका ने की है। राष्ट्रपति ट्रंप ने जनरल सुलेमानी के काफिले पर ह’मले का आदेश दिया था।

इसलिए ईरान ने पहली प्रतिक्रिया देकर अपना गु’स्सा जाहिर कर दिया है। लेकिन अभी भी दोनों देश खुलकर सामने नहीं आए हैं। अमेरिका और ईरान के टकराव को ह’ल्के में मत लीजिए। यदि ट’करा’व बढ़ा तो कच्चे ईधन तेल की की’म’तों में भारी उछाल आएगा। इसका सं’कट भी खड़ा होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.