पाकिस्तान: मंदिर में राशन बांट रहे हैं शाहिद अफ़रीदी

शाहिद अफरीदी, पकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान, जो आचकल अपने खेल की वजह से नहीं, कोरोना प्रभावित लोगों की मदद की वजह से चर्चाओं का केंद्र बिंदु बने हुए हैं, जबसे दुनिया में ये महामारी फैली है ये एकमात्र ऐसा पहला क्रिकेटर है जो दिन रात भूखे लोगों तक खाना पहुंचा रहा है।

पाकिस्तान में लोकड़ाउन के पहले ही दिन से शाहिद अफरीदी ने ये बीड़ा उठा लिया था और आये दिन उनकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर तैर ही रही थीं लेकिन ये तस्वीरें ज़रा हटकर हैं क्योंकि इसमें वो दिखाया गया है जो भारत्तीय मीडिया कभी दिखाना नहीं चाहेगी.

तस्वीरो में शाहिद अफरीदी अपनी वोलंटयर्स टीम के साथ पेशावर के श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर में लोगों को राशन मुहैया करा रहे हैं,

ये तस्वीरें जब आम से ख़ास हो जाती हैं क्योंकि पाकिस्तान के बार में ये बताया जाता है कि यहाँ हिंदुओं को पूजा अर्चना नहीं करने दी जाती,

तस्वीर में आप देख सकते हैं कि लोकड़ाउन में भी मंदिर के दरवाजे बंद नहीं कराए गए हैं।

सेनेटाइजर ग्लब्ज़ और मास्क भी बाँट रहे अफरीदी

ऐसे समय में जब हर कोई कोरोना वायरस (Coronavirus) जैसी गंभीर स्थिति का सामना कर रहा है ऐसे में कई लोग हैं जो दूसरों के लिए हीरो बनकर मदद के लिए सामने आए है.

हर कोई किसी न किसी तरह मुश्किल में फंसे लोगों की मदद कर रहा है. पाकिस्तान में आम लोगों की मदद के लिए मसीहा बनकर सामने आए हैं पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi).

अफरीदी (Shahid Afridi) पाकिस्तान में आम लोगों की मदद के लिए राशन से लेकर हैंड सैनेटाइजर बांट रहे हैं.

अपनी फाउंडेशन के साथ मिलकर लोगों की मदद कर रहे हैं अफरीदी
शाहिद अफऱीदी (Shahid Afridi) ने 21 मार्च 2020 से ही वीडियो ट्वीट करके लोगों में कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रति जागरूकता फैलाने का काम कर रहे हैं.

शाहिद अफरदी की फाउंडेशन इस दौरान लोगों में राशन बांटने के साथ-साथ जगह सैनेटाइजर भी लगा रहे हैं.

अफरीदी ने अपने पिता साहिबजादा फज़ल के नाम पर रहमान चैरिटी हॉस्पिटल में एक आइसोलेशन वॉर्ड भी बनाया है.

साल 2014 में अपने पिता की मृत्यू के बाद उन्होंने अफरीदी ने 2014 में अपना फाउंडेशन शुरू किया और साथ ही यह अस्पताल भी बनवाया था.

अफरीदी (Shahid Afridi) के इन प्रयासों की बेहद तारीफ हो रही है. वह अपने देश के हीरो बन गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.