पाकिस्तान: पैग़म्बर साहब की शान में गुस्ता’खी के आरोपी की कोर्ट रूम में गो’ली मा’रकर ह’त्या

नई दुनियां – एक युवा मु’स्लिम व्यक्ति ने बुधवार को पकिस्तान उत्तर-पश्चिमी शहर पेशावर के एक कोर्ट रूम में एक व्यक्ति की गो’ली मा’रकर ह’त्या  कर दी

इ’स्लामाबाद. एक युवा मु’स्लिम व्यक्ति ने बुधवार को पा’किस्तान उत्तर-पश्चिमी शहर पेशावर के एक कोर्ट रूम में एक का’दियानी मु’स्लिम व्यक्ति की गो’ली मा’रकर ह’त्या  कर दी. मृ’तक पर ईशनिंदा (blasphemy) के आरोप में मुकदमा चला रहा था.

अभी तक यह साफ़ नहीं हो पाया है कि ह’मलावर खालिद खान कड़ी सुरक्षा के बीच अदालत में कैसे आ गया ? घटना के तत्काल बाद ह’मलावर को अदालत परिसर से गिरफ्तार कर लिया गया.

पाकिस्तान में ईशनिंदा नहीं की जाती बर्दाश्त
पुलिस अधिकारी आज़म खान के अनुसार मृतक ताहिर शमीम अहमद ने खुद को इस्लाम के नबी होने दावा किया था और दो साल पहले उसे ईशनिंदा के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

अस्पताल ले जाने से पहले ही अहमद की मृत्यु हो गई. ईशनिंदा पाकिस्तान में एक अत्यंत विवादास्पद मुद्दा है जिसका दोषी पाए जाने पर लोगों को आजीवन कारावास या मौ’त की सजा दी जा सकती है. पाकिस्तान में भीड़ और व्यक्ति अक्सर ईशनिंदा के मामले में कानून को अपने हाथ में ले लेते हैं.

ईशनिंदा के लिए मौ’त की सजा का प्रावधान
अभी तक ईशनिंदा के लिए मौ’त की सजा का प्रावधान है लेकिन कई बार सिर्फ एक आरोप लगाने मात्र से दं’गे भड़’क जाते हैं. घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार समूहों का कहना है कि अक्सर ईशनिंदा के आरोपों का इस्तेमाल धा’र्मिक अ’ल्पसं’ख्यकों को ड’राने या व्यक्तिगत लड़ाई में निपटान के लिए किया जाता है.

वर्ष 2011 में पंजाब के एक गवर्नर को उसके ही गार्ड ने मा’र दिया था. उस गवर्नर ने असिया बीबी नाम की एक ईसाई महिला का बचाव किया था जिस पर ईशनिंदा का आरोप लगाया गया था.

असिया बीबी को मौ’त की सजा सुनाई गई थी और उसने 8 साल मौ’त का इंतजार करते हुए जेल में बिताए और अंतरराष्ट्रीय मीडिया का ध्यान उसके मामले पर आकर्षित होने के बाद ही उसे छोड़ा गया.

अपनी रिहाई पर इस्ला’मिक कट’टरपंथियों द्वारा लगातार ध’मकी दिए जाने के बाद वह पिछले साल अपनी बेटियों के पास कनाडा चली गई.।

(न्यूज 18 हिंदी से साभार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.