मुंबई में नागरिकता कानून के खि’लाफ आज़ाद मैदान में जुटे लाखों लोग, ये दिग्गज हस्तियां भी पहुंची

देशभर में सीएए और एनआरसी के खि’लाफ वि’रोध प्रदर्शन लगातार जारी है. मुंबई के आज़ाद मैदान में शनिवार के दिन सीएए के खि’लाफ किये गए प्रदर्शन में लाखोँ की तादाद में लोग शामिल हुई. आज़ाद मैदान में शनि’वार दोपहर से ही बड़े पैमाने में लोग जुटने लगे. देशभर में CAA के खि’लाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन के तर्ज पर ही मुं’बई के आ’ज़ाद मैदान में भी इस का’नून का वि’रोध किया गया.

मैदान में जहां हज़ारों-लाखों की भीड़ इस का’नून का वि’रोध कर रही थी तो वहीं मंच से अभि’नेता सुशांत सिंह ने इसे गलत बताया. शनिवार को आजाद मैदान में शनिवार को उर्दू कवि फैज अहमद की लोकप्रिय कविता ‘हम देखेंगे’ के पाठ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं गृह मंत्री अमित शाह के खि’लाफ ना’रेबा’जी के बीच बड़ी संख्या में महिलाओं समेत हजारों लोगों ने सीएए-एनआरसी-एनपी’आर व्यवस्था के खि’लाफ आह्वान दिया.

Image: CAA Raily Mumbai

‘नेशनल एला’यंस एगेंस्ट द सिटीजन एमेंडमेंट एक्ट (सीएए), प्रोपोज्ड नेश’नल रजिस्टर ऑफ सिटीजंस (एनआरसी) एंड नेशनल पोपु’लेशन रजिस्टर (एनपीआर)’ की महा’राष्ट्र इकाई ने इस ‘महा-मोर्चा’ प्रदर्शन का आ’योजन किया था.

मुंबई के वि’भिन्न हिस्सों, नवी मुंब’ई, ठाणे जैसे उप’नगरीय क्षेत्रों और मह’राष्ट्र के अन्य हिस्सों से लोग इस प्रदर्शन में पहुंचे थे.

तिरंगा लह’राते हुए और सीएए-एनआरसी-एनपीआर की निंदा करने वाली तख्ति’यां अपने हाथों में लिये प्रद’र्शनकारियों ने ‘मोदी, शाह से आ’जादी’ सीएस और एन’आरसी से आजादी’ जैसे नारे लगाये.

शाहीन बाग़ प्रोटेस्टर्स

प्रदर्शन’कारियों ने यह कहते हुए (एनपीआर या ऐसे किसी अन्य कवायद के दौरान) दस्ता’वेज नहीं दिखाने का सं’कल्प लिया कि वे अनादि काल से भारत के नागरिक हैं.

इस मौके पर सीएए-एन’आरसी-एनपीआर के खि’लाफ प्रस्ताव भी पारित किये गये. उन्होंने मांग की कि संसद के सत्र में इस नये नागरि’कता कानून को वापस लिया जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.