अभी अभी डॉ क’फील मामले में अ’दालत ने फिर रखी नई तारीख

अभी अभी मिली जानकारी के अनुसार इलाहाबाद हाईकोर्ट ने में डॉ कफील मामले में एक नई तारीख दे दी गई है जिसमे उनके ऊपर लगे NSA हटने और रिहाई का मामला तय पाना था लेकिन मिली जानकारी के अनुसार आज भी मामला आगे की तारीख के लिए बढ़ गया है – याद रहे आज डॉ कफील की बेटी का जन्मदिन भी है जो वो आज अपने पिता से मिलने की आस में लगी हुई है – लेकिन उनका पिता से दूर रहने का गम अब 27 अगस्त की नई तारीख मिली अब नई तारीख तक इंतजार और बढ़ गया है

यह भी पढ़े जब कांग्रेस की बड़ी लीडर प्रियंका गांधी जी ने भी डॉक्टर कफील की रिहाई के लिए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा

नई दिल्ली : डॉ. कफील खान की रिहाई के लिए प्रियंका ने लिखा यूपी के CM को पत्र, कहा-संवेदनशीलता दिखाएं.प्रियंका ने अपने लेटर में लिखा, ‘मुख्मंत्री महोदय, इस पत्र के माध्यम से डॉ कफील खान का मामला आपके संज्ञान में लाना चाहती हूं. ये अब तक लगभग 450 स जयादा दिन जेल में गुजार चुके हैं.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गोरखपुर अस्पताल के ऑक;सीजन कां’ड को लेकर चर्चा में आए डॉक्टर कफील खान को लेकर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदितयनाथ को पत्र लिखा है. इस पत्र में कांग्रेस नेता ने कफील को न्यय दिलाने में उनकी पूरी मदद करने का अनुरोध किया है.

प्रियंका ने अपने लेटर में लिखा, ‘मुख्य’मंत्री महोदय, इस पत्र के माध्यम से डॉक्टर कफील खान का मामला आपके संज्ञान में लाना चाहती हूं. ये अब तक लगभग 450 से ज्यादा दिन जेल में गुजार चुके हैं. डॉ कफील ने कठिन परिसिथतियों में निस्वार्थ भाव से लोगों से लोगों की सेवा की है.’ उन्होंने अपने लेटर में आगे लिखा-मुझे उम्मीद है की आप संवेदनशीलता का परिचय देते हुए डॉ. कफील को न्याय दिलवाने का पूरा प्रयास करेंगे.

मुझे अशा है कि गुरु गोरखनाथ जी की यह सही आपको मेरे इस निवेदन को मानने के लिए प्रेरित करेगी. लेटर का अंत उन्होंने इस संदेश से किया है-मन में रहिणों, भेद न कहिणों, बोलिबा अमृत वाणी, अगिला अगनी होईया हे अवधू आपणा होइबा पाणी. इसके मायने हैं किसी से भेद न करो, मीठीक वाणी बोले, यदि आपके सामने वाला आग बनकर जला रहा तो तो हे योगी तुम पानी बनकर उसे शांत करो.


गौरतलब है कि अगस्त 2017 में जब डॉ. कफील गोरखपुर अस्पताल में ड्यूटी पर थे तब अचानक ऑक्;सीजन की सप;लाई खत्;म होने से आईसीयू विभाग में भर्ती कई नवजात और बच्चों की जा’न चली गई थी. उस वक्त डॉ कफील ने बाहर से ऑ;क्सीजन सिंलेडर का इंतजार करके बच्चों को बचाने की भर’सक कोशिश की. मीडिया ने उनके इस काम की भरपूर सराहना की थी

इससे पहले आम आदमी के लीडर और राज्यसभा सांसद संजय सिंह भी डॉ कफील की रिहाई के लिए पत्र लिख चुके है

हालांकि इसके बाद कफील को विभागीय लापरवाही और भ्रष्&टाचार के मामले में निलंबित कर दिया गया था, उन्हें कई माह जेल में भी गुजारने पड़े थे.

डॉ कफील की रिहाई के मामले लोकसभा संसद में विपक्ष के लीडर और कांग्रेस के लोकसभा सांसद अधीर रंजन चौधरी जी पत्र लिख चुके है

(खबर फेसबुक से साभार )

Leave a Reply

Your email address will not be published.