बहन के ब’लात्कारी से बदलना लेने के लिए पंहुचा तिहाड़ जेल, फिर उसे उतारा मौ’त के घाट

दिल्ली (Delhi) – के एक शख्स ने अपनी बहन के ब’लात्का:री को उसके अं’जाम तक पहुंचाने के लिए क’त्ल की ऐसी सा’जिश तैयार की, जिसका क्लाइमेक्स सात साल बाद तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में आरोपी के क’त्ल से हुआ. क’त्ल की ये खौ’फना’क साजिश किसी फिल्मी स्क्रिप्ट से कम नहीं है.

दरअसल, साल 2014 में दिल्ली के आंबेडकर नगर इलाके में रहने वाले जाकिर की नाबालिग बहन के साथ मेहताब नाम के शख्स ने रेप किया था. जिसके बाद उस मासूम ने खुदकुशी कर ली थी. इस वारदात ने जाकिर को अंदर तक तोड़कर रख दिया था. जाकिर हर हाल में अपनी बहन के रेप का बदला लेना चाहता था, लेकिन आरोपी रेप के मुकदमे में तिहाड़ जेल जा चुका था और जाकिर की पहुंच से बाहर निकल गया था

इसके बाद जाकिर ने साल 2014 में मेहताब के क’त्ल की जो स्क्रिप्ट लिखनी शुरू की उसका क्लाइमेक्स 7 साल बाद तिहाड़ जेल में पूरा हुआ. जाकिर ने मेहताब का जेल में ही क’त्ल कर दिया.

जाकिर साल 2018 में क’त्ल के आरोप में तिहाड़ जेल गया लेकिन मेहताब तिहाड़ की दूसरी जेल में बंद था. लिहाजा, मेहताब तके पहुंचने के लिए जाकिर ने एक प्लान तैयार किया. वो अपने साथियों के साथ बिना वजह झ’गड़ा करने लगा. रोज-रोज के झगड़े तो देखते हुए तिहाड़ प्रशासन ने कुछ दिन पहले जाकिर को जेल नंबर 8 यानी उसकी जगह शिफ्ट कर दिया जहां मेहताब बंद था.

29 जून की सुबह जाकिर ने जेल में लोहे की छड़ को पैना कर बनाये गए चा”कू से मेहताब पर हमला कर उसे बुरी तरह घायल कर दिया, जिसके बाद डीडीयू अस्पताल में मेहताब ने दम तोड़ दिया. फिलहाल, पुलिस ने जाकिर के खिलाफ क’त्ल का मुकदमा दर्ज कर लिया है.

(साभार हिंदी सियासत से)

Leave a Reply

Your email address will not be published.