दुःखद–शाहीन बाग में लड़कियों की जगह लड़के बैठे है ,बदनाम कर रहे कुछ संघी,जानिए सच क्या है,,,

क्या दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन में महिलाओं के साथ पुरुष भी बुर्का पहन कर शामिल हो रहे हैं? सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसके जरिये ऐसा ही दावा किया जा रहा है. इस खबर में हम इसी दावे की पड़ताल करने वाले हैं. इस दावे का सच हमें इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम की मदद से मालूम चला है.

वायरल वीडियो में कुछ लोग बुर्का पहने एक शख्स के साथ धक्का-मुक्की करते और उसे पीटते दिख रहे हैं. देखिए –आराधना दुबे नाम के एक फेसबुक पेज ने इस वीडियो को पोस्ट करते हुए शाहीन बाग़ में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों को लेकर आपत्ति,जनक भाषा का इस्तेमाल किया है. सब बातों का निचोड़ ये कि शाहीन बाग़ में नज़र आ रहे प्रदर्शनकारियों में बुर्का पहने पुरुष भी हैं.

तो कुल जमा बात ये कि वायरल वीडियो भारत की राजधानी दिल्ली का नहीं गोआ की राजधानी पणजी का है. बुर्का पहना शख्स किसी प्रोटेस्ट में नहीं बल्कि एक लेडीज़ टॉयलेट में घुसा था. और इस वीडियो का दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चल रहे शांतिपूर्ण प्रदर्शन से कोई लेना-देना नहीं है.पड़ताल: जामिया के स्टूडेंट पर फाय,रिंग करने वाले लड़के के वोटर कार्ड का सच क्या है?इंटरनेट बहुत बढ़िया जगह है.

मेहनत की जाए तो यहां सब कुछ मिलता है. हमें भी दो अखबारों की खबरें मिल गईं. दैनिक भास्कर और जनसत्ता. ये फरवरी, 2019 में प्रकाशित न्यूज आर्टिकल्स थे, जिनमें वायरल वीडियो के स्क्रीनशॉट्स का इस्तेमाल किया गया था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 16 फरवरी, 2019 को गोवा की राजधानी पणजी में वर्जिल फर्नांडीज नाम का एक आदमी बुर्का पहनकर बस स्टैंड पर बने महिला टॉयलेट में घुस गया था.

शख्स की संदिग्ध गतिविधियों को देख टॉयलेट में मौजूद महिलाओं को कुछ शंका हुई और उन्होंने शोर मचाना शुरू कर दिया. खुद को फंसता देख ये आदमी बाहर की ओर भागा तभी वहां मौजूद कुछ लोगों ने उसको पकड़ लिया और उसकी पिटा,ई शुरू कर दी. उस समय पुलि,स ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. वर्जिल को आर एस एस और भाजपा का बताकर 2019 में भी यह वीडियो खूब वायरल हुआ था.

एक और बात है. वायरल वीडियो में आप वर्जिल को पीट रहे लोगों को बीच-बीच में मराठी बोलते हुए सुन सकते हैं. दिल्ली के शाहीन बाग़ में मराठी बोलने वाले ढूंढने पर ही मिलेंगे. लेकिन गोआ में मराठीभाषियों की संख्या अच्छी खासी है.तो कुल जमा बात ये कि वायरल वीडियो भारत की राजधानी दिल्ली का नहीं गोआ की राजधानी पणजी का है.

बुर्का पहना शख्स किसी प्रोटेस्ट में नहीं बल्कि एक लेडीज़ टॉयलेट में घुसा था. और इस वीडियो का दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चल रहे शांतिपूर्ण प्रदर्शन से कोई लेना-देना नहीं है.जिसे संघी बिना वजह बदनाम कर रहे है अभी कुछ दिन पहले खबर उड़ाई थी कि शाहीन बाग प्रोटेस्ट में लड़कियों को बेठाणे के पांच सौ रुपए मिल रहे है जो कि गलत अफवाह थी

Leave a Reply

Your email address will not be published.