बड़ी खबर – हसीन जहाँ ने शमी पर फिर लगाया बड़ा इल्जाम, कोर्ट ने लिया एक्शन

देश में दो लोगों का सबसे ज्यादा पीछा दांगा हुआ है, एक तो राष्ट्रीय तबला मनोज तिवारी भाईसाब हैं जिन्हें हर कोई आड़े हाथों ले रहा है, और दुसरे अपने शमी भिया हैं जिनके पीछे हमारी भाभी हाथ धोकर पड़ी हैं। आईये जानिये मामला क्या है आखिर-

अमरोहा। क्रिकेटर मोहम्मद शमी की पत्नी हसीनजहां अब इलाहाबाद हाई कोर्ट में खुद बहस करेंगी। हसीन ने पुलिस पर अपने और बेटी आयरा के साथ अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए याचिका दायर की थी। उनका आरोप है कि शमी उनके वकील पर दबाव बना रहे हैं। यही कारण है कि उनके एक वकील ने स्वास्थ्य का बहाना बनाकर केस छोड़ दिया। वहीं दूसरा वकील बहानेबाजी कर रहा है। इसके चलते उन्होंने अब स्वयं कोर्ट में बहस करने का निर्णय लिया है।

Shami and hasin jaha (file photo)

क्रिकेटर पति मोहम्मद शमी व उनके परिजनों के खिलाफ हसीन ने करीब दो साल पहले दहेज उत्पीड़न और अभद्रता करने का आरोप लगाते हुए कोलकाता में मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद पिछले साल 28 अप्रैल को वह अपनी बेटी आयरा के साथ उप्र के अमरोहा स्थित सहसपुर अलीनगर अपनी ससुराल पहुंच गई।

उस वक्त घर में शमी के परिजन मौजूद थे। उन्होंने हसीन के जबरन घर में घुसने की शिकायत पुलिस से की जबकि, हसीन का दावा था कि ससुराल में उनका कानूनी हक है।

Hasin jaha (file photo)

मामला पुलिस के उच्चाधिकारियों तक पहुंचा तो आधी रात को पहुंची डिडौली पुलिस हसीन को उनकी बच्ची आयरा के साथ शमी के घर से ले गई। पुलिस ने मां-बेटी को रातभर जिला अस्पताल में रखा। सुबह उनके खिलाफ शांतिभंग का मुकदमा दर्ज कर एसडीएम कोर्ट में पेश किया था।

Shami and hasin jaha (file photo)

यहां से उनको जमानत मिल गई। हसीनजहां का आरोप था कि पुलिस ने उन्हें गाउन में ही जबरिया घर से उठा लिया। रातभर भूखे-प्यासे बच्ची समेत उन्हें जिला अस्पताल के एक कमरे में बंद रखा। बाहर निकालने के लिए कहने पर पुलिसकर्मियों ने अभद्रता की।

इन आरोपों के साथ हसीन ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में पुलिस के खिलाफ याचिका दाखिल की थी। कोर्ट ने अमरोहा पुलिस को नोटिस देकर जवाब-तलब किया था। पुलिस ने भी कोर्ट में अपना पक्ष प्रस्तुत कर दिया है।

हसीनजहां का आरोप है कि शमी के दबाव में पुलिस और अधिवक्ता उनकी मदद नहीं कर रहे। उधर, मोहम्मद शमी के भाई हसीब ने कहा कि शमी ने न तो पुलिस पर कभी कोई दबाव बनाया और न ही किसी अधिवक्ता पर। कोर्ट में सुनवाई के बाद हकीकत सामने आ जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.