माशा अल्लाह–शाहीन बाग में प्रोटेस्ट करने के लिए नोकरी छोड़ दी ,ऐसी जाबांज लड़की को सलाम–

दिल्ली के शाहीन बाग समेत कई इलाकों में सरकार के नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ महिलाओं का प्रदर्शन जारी है.इन प्रदर्शनों में हर उम्र की महिलाएं अपने छोटे-छोटे बच्चों के साथ भाग ले रही है. वहीं कुछ ने प्रदर्शनों में शामिल होने के लिए अपनी नौकरी भी छोड़ दी है.

दिल्ली के खुरेजी इलाके की मेहनाज़ शेख़ एक निजी स्कूल में टीचर थीं.
शाहीन बाग़ में रहने वाली हुमायरा सैयद पिछले 50 दिन से कोचिंग सेंटर पढ़ाने नहीं जा रहीं.इनका कहना है कि जब तक इनकी मांगे नहीं मानी जाती, तब तक वो प्रदर्शन जारी रखेंगीं.रविवार को गोवा में संघ के एक व्याख्यान के दौरान भैय्याजी जोशी ने कहा,


“हिंदू समुदाय का मतलब बीजेपी नहीं है. भाजपा का विरोध करने वाला हिंदू का विरोधी है, ऐसा नहीं मानना चाहिए. राजनीतिक लड़ाई चलती रहती है. इसको इसके साथ जोड़ कर नहीं देखना चाहिए.”इस बैठक के दौरान उन्होंने ये भी कहा, “हां, हिंदू, हिंदू का शत्रु बनता है, ऐसे उदाहरण हैं हमारे यहां. वो आज के नहीं हैं.एक जाति के लोग भी आपस में विरोध करते हैं.”

उन्होंने आगे कहा, “हिंदुत्व का विरोध करना भी कभी-कभी पॉलिटिकल होता, हिंदुत्व का समर्थन करना भी कभी कभी पॉलिटिकल, होता है. मैं समझता हूँ हिंदुत्व और हिंदू समाज को इससे ऊपर उठना चाहिए.”यहाँ संदर्भ के लिए ये समझना ज़रूरी है कि आरएसएस के सर कार्यवाह भैय्याजी जोशी से इस कार्यक्रम में ये सवाल पूछा गया था, “क्या आज देश की परिस्थिति को देखकर लगता है कि हिंदू ही हिंदुओं का दुश्मन है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.