मर’कज़ में शामिल एक हजार सं’क्रमित ज’माती हुए स्वस्थ, मिला घर जाने का आदेश

नई दिल्ली : दिल्ली के स्वास्थ्य और गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि करीब एक हजार को’रोना से सं’क्रमित जमा’ती जो ठीक हो चुके हैं उन्हें उनके घर जाने दिया जाए. वहीं, जिन लोगों पर मुकदमा है उन पर पुलिस का’र्रवाई करे।

क्वारनटीन सेंटर में रखे गए जमा’ती जा सकेंगे घर
दिल्ली के गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने दिया है आदेश
दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी ज’मात से जुड़े लोगों को लेकर दिल्ली सरकार ने अहम फैसला लिया है. दिल्ली के स्वास्थ्य और गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि करीब एक हजार को’रोना से सं’क्रमित ज’माती जो ठीक हो चुके हैं उन्हें उनके घर जाने दिया जाए. वहीं, जिन लोगों पर मुकदमा है उन पर पुलिस का’र्रवाई करे.

बता दें कि करीब 4 हजार से ज्यादा ऐसे लोग थे जिनको मार्च के आखिर में निजामुद्दीन स्थित म’रकज से या अन्य जगहों से पकड़ा गया था. इनमें से एक हजार से ज्यादा को’रोना संक्रमित पाए गए थे. बाकी लोगों को अलग-अलग क्वारनटीन सेंटर में रखा गया था. अब जो सं’क्रमित लोग ठीक हो चुके हैं उन्हें घर जाने देने का सरकार ने आदेश दिया है.

बता दें कि देश में को’रोना वायरस के संक्रमण के फैलने को लेकर तबलीगी जमात बीते दो महीनों से चर्चा में है. राज्यों की सरकारें को’रोना के तेजी से फैलने के लिए ज’मात को जिम्मेदार ठहराती रही हैं.

मार्च महीने में को’रोना वा’यरस के खतरे के बीच मरकज में नियमों का उल्लंघन करते हुए बड़ी संख्या में ज’माती जमा हुए थे. इनमें से बड़ी संख्या में ज’माती को’रोना संक्र’मित निकले थे, जिसके बाद मर’कज के संचालक मौलाना साद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी. मौलाना साद की गिरफ्तारी अभी तक नहीं हो पाई है. हालांकि मौलाना साद ने दावा किया कि उन्होंने को’रोना की जांच करा ली है और रिपोर्ट निगेटिव आई है.

हजारो की तादाद में लोग पहुंचे थे म’रकज’

दिल्ली पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक, 13 से 24 मार्च के बीच मर’कज में कम से कम 16,500 लोग पहुंचे थे. सेल फोन डेटा के यूज के आधार पर कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग कर और मरकज में एक्टिव मोबाइल्स के आधार पर इस संख्या का आकलन किया गया है. जांच में सामने आया कि मरकज में आने वाले जमाती यहां से निकलने के बाद करीब 15,000 लोगों के संपर्क में आए थे. जबकि कुछ मर’कज में ही रुके थे.

(आजतक से साभा

Leave a Reply

Your email address will not be published.