मलेशिया के धर्म गुरु ने यूएई के लिए बोल दिया इतनी अ’पतिजनक शब्द

इंडोनेशिया के शीर्ष मुस्लिम मौलवियों ने बुधवार को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और इस’राय’ ल के बीच हालिया सामान्यीकरण सौदे की निं’दा करते हुए इसे रद्द कर दिया।इंडोनेशियन उलेमा काउंसिल के उपाध्यक्ष मुहिद्दीन जुनैदी ने कहा कि यूएई का कदम फिलिस्तीनी कारण के साथ विश्वासघा’त करार दिया है।


जुनैदी ने जकार्ता में एक ऑनलाइन चर्चा में कहा, “यह मुसलमानों के लिए एक दर्द’नाक घ’टना थी।”उन्होंने कहा कि यूएई को यह याद रखना होगा कि ऑर्गनाइजेशन फॉर इस्लामिक कोऑपरेशन (OIC) ने मार्च 2016 में जकार्ता में अपनी आपात बैठक के दौरान इस’राय ‘ल पर एक प्र’तिबं’ध लगाने पर सहमति व्यक्त की थी।

उन्होंने कहा कि इंडोनेशिया 1945 में औपनिवेशिक शासन से अपनी स्वतंत्रता को स्वीकार करने वालों में से एक होने के लिए फिलिस्तीन का सम्मान करता है, यह कहते हुए कि जकार्ता फिलिस्तीनियों के साथ तब तक खड़ा रहेगा जब तक वे मुक्ति प्राप्त नहीं कर लेते।

जुनैदी ने कहा, “फिलिस्तीन इंडोनेशिया की स्वतंत्रता को मान्यता देने वाला पहला देश है, हम उनकी दया को कभी नहीं भूलेंगे।उन्होंने देश में संगठनों से इस’ राय’ल के कब्जे से मुक्त फिलिस्तीन की मदद के लिए एकीकृत प्रयास जारी रखने का आग्रह करते हुए कहा कि फिलिस्तीन का कारण केवल मुसलमानों और अरबों के लिए ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लिए एक बेहद खास जगह हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.