India

43 में से 42 मुसलमान विधायक ने जीतकर बदल दी बंगाल की राजनीति

पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में हुए विधानसभा चुनावों के नतीजे रविवार 2 मई को मतगणना के बाद घोषित किए गए। इन पांचो राज्यों में सबसे ज्यादा गर्मागर्मी पश्चिम बंगाल में रही, यहां पर ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस नरेंद्र मोदी की नेतृत्व वाली बीजेपी की सिधी टक्टर थी। हालांकि पश्चिम बंगाल में ममता तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुकी हैं, लेकिन यहां पर सबसे ज्यादा चर्चा मुस्लिमों वोटरों की हुई। और पश्चिम बंगाल से तो TMC ने 42 मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया था जिसमें से 41 उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है।

पश्चिम बंगाल में अकेले तृणमूल कांग्रेस ने 42 मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया था, जिसमें से मात्र एक की ही हार हुई है।

साथ ही ISF को भी 1 सीट मिली, जिससे राज्य में मुस्लिम विधायकों की संख्या 42 है। मुस्लिमों का ममता बनर्जी की तरफ इस कदर झुकाव है कि 5 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM एक सीट जीत नहीं सकी। औऱ 40 सीटों पर कांग्रेस और CPI के समर्थन में लड़ने वाली सिद्दीकी की ISF को मात्र 1 सीट पर जीत हासिल हुई। इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि मुस्सिम वोटरों में ममता बनर्जी का कितना पैठ है।

असम में भी पश्चिम बंगाल की तरह अधिकतर क्षेत्रों में मुस्लिमों और घुसपैठियों का दबदबा रहा है। यहां पर पिछली बार 29 मुस्लिम विधायक जीते थे, नव-निर्वाचित विधानसभा में मुस्लिमों की संख्या 31 होगी। नए मुस्लिम विधायकों में से 16 कांग्रेस और 15 मौलाना बदरुद्दीन अजमल की AIUDF के हैं। यहां से भाजपा ने आठ मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया था लेकिन बीजेपी के खाते में एक भी मुस्लिम विधायक नहीं आ सका।

केरल में मुस्लिम और ईसाई समुदाय के बीच टक्टर होती है और यहां भी कांग्रेस ने एक और इस्लामी पार्टी IUML (मुस्लिम लीग) के साथ गठबंधन किया था। 140 सदस्यीय विधानसभा में यहां 32 मुस्लिम उम्मीदवारों को जीत मिली है। इनमें से 15 तो अकेले IUML के ही हैं। बाकी के 3 कांग्रेस और 9CPI(M) के हैं।

विधानसभा की 234 सीटों में से मात्र 5 ही मुस्लिमों के खाते में गए। वहीं पुडुचेरी में मात्र एक मुस्लिम विधायक ने जीत हासिल की। असदुद्दीन ओवैसी ने कई सीटों पर चुनाव लड़ा लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। इन पाचों राज्यों में कुल 111 नए मुस्लिम विधायक होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *